Introduction to GUI Based Operating System

2
1226
Introduction to GUI Based Operating System
Introduction to GUI Based Operating System

Introduction To GUI Based Operating System

Introduction (परिचय )

Topics Covered In Post

आज के युग मे Personal Computer ( पर्सनल कंप्यूटर) की दुनिया बहुत ही एडवांस (Advance) हो चुकी है। ऐसे में  सभी को कंप्यूटर की जानकारी होना आवश्यक हो गया है। छोटी से छोटी चीजे आज कल कंप्यूटर के माध्यम से ऑनलाइन होने लगी है और क्यों न हो हमारे देश की विकाश इतनी तेजी से जो बढ़ रहा है, और आज के समय में सभी को Basic Computer Knowledge का होना जरूरी हो गया है।

यही कारण है जो Computer Education / Computer  Knowledge का डिमांड बढ़ गया है। इसलिए हम आप सभी के साथ शेयर कर रहे है CCC Exam से संबंधित जानकारियां और आज के इस पेज पर पढ़ेंगे CCC Chapter 2. Introduction To GUI Based Operating System

Objective Of Introduction To GUI Based Operating System

CCC Chapter 2. Introduction To GUI Based Operating System है।

Basics Of Operating System

    Operating System

    Basics Of Popular Operating System ( Linux , Windows)

The User Interface

    Taskbar

    Icon

    Start Menu

    Running An Application

Operating System Simple Setting

    Changing System Date And Time

    Changing Display Properties

    To Add Or Remove A Windows Components

    Changing Mouse Properties

    Adding And Removing Printers

File Directory Management

Type Of Files

Summary

    Model Questions And Answers

ये सारे टॉपिक है जो CCC Exam के Chapter नो० 2 के Introduction To GUI Based Operating System में आपको ध्यान देने है। CCC Exam Crack करने के लिए ये Chapter महत्वपूर्ण है।

Topics Covered

  • Basics Of Operating System
  • Operating System क्या है ?
  • What Is Operating System In Hindi?
  • Basics Of Popular Operating System Windows, Linux
  • Windows Operating System क्या है ?
  • What Is Windows Operating System In Hindi?
  • Different Types Of Windows Operating System,
  • विंडोज के प्रकार
  • Linux क्या है?
  • What Is Linux In Hindi? Linux का Owner कौन है?
  • यूजर इंटरफ़ेस क्या है?
  • What Is User Interface In Hindi?
  • यूजर इंटरफेस के प्रकार
  • Types Of User Interface In Hindi
  • ग्राफिकल यूज़र इंटरफेस Graphical User Interface
  • वेब यूज़र इंटरफ़ेस
  • Web User Interface
  • टच स्क्रीन इंटरफेस
  • Touch Screen Interface
  • कमांड लाइन इंटरफेस
  • Command Line Interface
  • हार्डवेयर यूजर इंटरफ़ेस
  • Hardware User Interface
  • Taskbar क्या है
  • What Is Taskbar In Hindi
  • Icon क्या है?
  • What Is Icon In Hindi?
  • Start Menu क्या है?
  • What Is Start Menu In Hindi?
  • Operating System Simple Setting
  • How To Change Date And Time Of Computer
  • कंप्यूटर में तारीख और समय बदलना
  • How To Change Display Properties In Hindi
  • Add Or Remove Windows Component
  • Changing Mouse Properties
  • माउस की प्रॉपर्टी कैसे बदले
  • How To Install Or Remove Printers
  • Printer कैसे Install करें और Printer कैसे Remove करते है।
  • How To Uninstall Printer From Computer In Hindi
  • कंप्यूटर फाइल कितने प्रकार की होती है?
operating system in hindi
operating system in hindi

(बेसिक ऑफ ऑपरेटिंग सिस्टम) Basics Of Operating System

क्या आपको पता है Operating System क्या है ? Operating System किसे कहते है ? और Operating System क्या काम करता है ? अगर नही पता तो परेशान न  हो क्योंकि इसका जवाब हम देंगे इस पेज के माध्यम से।

Operating System क्या है ? ( What Is Operating System In Hindi ?)

Operating System एक System Software है जो Computer और User के बीच एक रिलेशन बनाता है जिससे कि कंप्यूटर चल सके अर्थार्त  Computer के Hardware को और User (Computer चालक ) के बीच  में एक Interface का काम करता है जिसे हमरा कंप्यूटर का संचालन हो सके और Operating System का छोटा नाम Os है जिसे हम सभी (Operating System) शब्द का उचारण जल्दी करते है मतलब Operating System को OS (ओ०एस०) भी कहते है।

अगर दूसरे शब्दों में कहा जाए तो Computer को Operate करने ( चलाने ) के लिए ये ऑपरेटिंग सिस्टम ही एक जरिया देता है जिससे आप कंप्यूटर को चला पाते है।

ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System) एक ऐसा सॉफ्टवेयर प्रोग्राम (Software Programs) है जिसे बिना कंप्यूटर हार्डवेयर (Computer Hardware) के चलाया जाना व्यर्थ है बिना ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System) के कंप्यूटर कोई काम का नहीं अर्थात इसकी सरल परिभाषा है ऐसे सॉफ्टवेयर जो हार्डवेयर को कंट्रोल करें (“Software that Controls the Hardware”) उसे ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System) कहते हैं ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System) के कई प्रकार है

कुछ ऐसे जरूरी सॉफ्टवेयर प्रोग्राम (Software Programs) होते हैं जिन्हें कंप्यूटर में चलाना जरूरी होता है जो और किसी प्लेटफार्म (Platforms) पर ना चल सके…… इसलिए ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System) को बनाया गया है जैसे कीबोर्ड द्वारा दिए गए इनपुट, डिस्प्ले स्क्रीन द्वारा भेजे गए आउटपुट, फाइल (file) को सुरक्षित रखना और अन्य डिवाइस (device) को जोड़कर रखना तथा इंस्टॉल करके रखना जैसे ड्राइवर और प्रिंटर,

ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System) का एक और कार्य है जो किसी गैर यूजर (Unauthorized User) को एक्सेस (Access / Control) ना देना

ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System) को हम रिसोर्स मैनेजर (research manager) भी कहते हैं क्योंकि ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System) मैनेज (Manage) करता है सभी कंप्यूटर को और Locate करता है Specific प्रोग्राम को यूजर के अनुसार

ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System) को कंट्रोल प्रोग्राम भी कहते हैं क्योंकि यह कंट्रोल करता है सभी Computer System को और यूजर द्वारा दिए गए निर्देश या कमांड को आउटपुट या एग्जीक्यूट (execute) करता है बिना किसी गलतियों के

कंप्यूटर में जब भी कोई यूजर किसी भी फाइल को हिंदी या अंग्रेजी भाषा में पढ़ रहा होता है तो वाह सभी डाटा यूजर द्वारा पढ़े गए कंप्यूटर में स्टोर (Store) होता है जो (0 & 1) जीरो और एक के अंतर्गत मेमोरी में किया जाता है क्योंकि कंप्यूटर (binary digits) बाइनरी डिजिट को समझता है बाइनरी डिजिट जीरो और एक होता है

ऑपरेटिंग सिस्टम कैसे कार्य करता है (How Operating System Works In Hindi?)

जब भी हम कंप्यूटर को चालू करते हैं तब एक लॉजिक (logic) पास होता है ताकि कंप्यूटर लोड उठा सके और ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System) को कंट्रोल कर सके इस गतिविधि को बूटिंग (booting) कहते हैं

कंप्यूटर बूट होने के कुछ स्टेप है (How Computer Boot in Hindi)

कंप्यूटर के स्विच (Switch) को चालू करके कंप्यूटर को चालू करना इस प्रोसेस में कंप्यूटर खुद से यह चेक करता है प्रोसेसर (Processor) के साथ सारे बेसिक डिवाइस कनेक्ट है या नहीं जैसे माउस, कीबोर्ड, मॉनिटर

दूसरी प्रोसेस (Process) में BIOS जोकि कंप्यूटर का हिस्सा है वह Check करता है आपके राम को या आसान भाषा में कहे तो कंप्यूटर मेमोरी को चेक करता है

BIOS का कार्य डेस्क (Desk) को Check करना होता है ताकि वाह ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System) को चालू कर सके, वे जगह जहां सभी फाइल होते हैं उसे अंग्रेजी में (Boot Sector) बूट सेक्टर कहा जाता है जा फाइल बहुत ही जरूरी होते हैं ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System) को लोड (load) लेने के लिए अर्थात चालू होने के लिए अगर यह फाइल (file) नहीं हो कंप्यूटर में तो कंप्यूटर चालू नहीं होगा अब यहां चालू होने से मतलब है आपका ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System) काम नहीं करेगा

कंप्यूटर चालू करने के बाद एक बार यह फाइल लोड हो जाते हैं तब कुछ और कंफीग्रेशन (configuration) जरूरी होते हैं ताकि कंप्यूटर को पूरी तरह से चालू कर सके यह सभी कार्य होने के बाद ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System) कंप्यूटर पर अपना कंट्रोल बना लेता है जिससे हम आसानी से कंप्यूटर का उपयोग कर सकते हैं।

फंक्शन ऑफ ऑपरेटिंग सिस्टम (Function Of Operating System)

ऑपरेटिंग सिस्टम 4 function पर कार्य करता है मेमोरी, प्रोसेसर, इनपुट – आउटपुट डिवाइस, और फाइल

  • मेमोरी मैनेजमेंट फंक्शन (Memory Management Function)
  • प्रोसेसर मैनेजमेंट फंक्शन (Processor Management Function)
  • इनपुट आउटपुट डिवाइस मैनेजमेंट फंक्शन (I/O Device Management Function)
  • फाइल मैनेजमेंट फंक्शन (File Management Function)

👉मेमोरी मैनेजमेंट फंक्शन (Memory Management Function)

मेमोरी मैनेजमेंट फंक्शन कंप्यूटर में मेमोरी और कुछ अलग तरीके के सिस्टम को संभालता है।

👉प्रोसेसर मैनेजमेंट फंक्शन (Processor Management Function)

प्रोसेसर मैनेजमेंट फंक्शन का कार्य ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System) में सिर्फ इतना होता है जो किसी भी कार्य को करने के लिए संभाला जा सके जैसे किसी भी प्रोग्राम को चालू करना और उस पर कार्य करना प्रोसेसिंग का कार्य होता है

👉इनपुट आउटपुट डिवाइस मैनेजमेंट फंक्शन (I/O Device Management Function)

इनपुट और आउटपुट डिवाइस को मैनेज करने के लिए यह फंक्शन इस्तेमाल होता है जैसे कीबोर्ड से टाइप करना और कीबोर्ड द्वारा टाइप किए गए डाटा को कंप्यूटर में स्टोर करना तथा उसका रिजल्ट आउटपुट देना।

👉फाइल मैनेजमेंट फंक्शन (File Management Function)

फाइल मैनेजमेंट फंक्शंस का काम फाइल आर किसी भी जानकारी को सुरक्षित रखना तथा समाजवाद फाइल या डाटा से जानकारी लेने का होता है

क्लासिफिकेशन ऑफ ऑपरेटिंग सिस्टम (Classification Of Operating System)

ऑपरेटिंग सिस्टम को तरह तरह के आधार पर बांटा गया है ऑपरेटिंग सिस्टम को यूजर के आधार पर दो  बागों में बांटा गया है

  • Single User Operating System
  • Multi User Operating System

👉सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम (Single User Operating System)

सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System) एक ही समय में एक ही प्रोग्राम को चलाया जा सकता है उदाहरण के लिए सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System) है MS-DOS

👉मल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम (Multi User Operating System)

मल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम का अर्थ है एक ही समय में दो और उससे भी ज्यादा प्रोग्राम को रन किया जा सकता है कुछ ऐसे ऑपरेटिंग सिस्टम है जो एक बार में 100 या उससे भी यूजर को धमाल किया जा सकता है उदाहरण के लिए

UNIX/Linux, Win-NT/ME/2000/Vista/XP इत्यादि सभी ऐसे ऑपरेटिंग सिस्टम है जो अधिकांश इस्तेमाल किए जाते हैं।

operating system
operating system

Basics Of Popular Operating System ( Windows, Linux)

कुछ लोकप्रिय ऑपरेटिंग सिस्टम है जैसे Windows Operating System, Linux Based Operating System, Android, Mac, इत्यादि।

ऐसे बहुत से ऑपरेटिंग सिस्टम है जिनका नाम मैंने यहा जिक्र नही किया है लेकिन जो भी ऑपरेटिंग सिस्टम के नाम हमने लिए है उनके बारे में कुछ डिटेल्स में जानते है औऱ कुछ फैक्ट भी।

What is Operating System in hindi
Operating System क्या है?

Windows Operating System क्या है ? ( What Is Windows Operating System In Hindi?)

Windows का पूरा नाम Microsoft Windows Operating System है जिसे Microsoft Corporation द्वारा बनाया गया था जिसके संस्थापक (Founder) Bill Gates है।

Windows Operating System एक Graphical User Interface Based Operating System Software है जो अधिकतर Computer में इस्तमाल होने वाला Operating System है।

different types of operating system in hindi
different types of operating system

Different Types Of Windows Operating System

बहुत सारे Windows के Version है 1980’s से और जब ये ऑपरेटिंग सिस्टम लांच किए गए थे तब यह सिर्फ पर्सनल कंप्यूटर के लोए ही हुआ करते थे पर अब जैसे जैसे टेक्नोलॉजी बढ़ती गई वैसे वैसे ऑपरेटिंग सिस्टम का दौर बढ़ता गया और अब ऑपरेटिंग सिस्टम स्मार्टफोन, टी० वी०, टेबलेट्स, में उपलब्ध हो गए है।

Windows Operating System के प्रकार जैसे:-

Windows OS Quick Links

MS-DOS (1981 )

Windows 1.0 – 2.0 ( 1985 – 1992)

Windows 3.0 – 3.1 ( 1990 – 1994)

Windows 95 ( August 1995)

Windows 98 ( June 1998)

Windows ME – Millennium Edition (September 2000)

Windows NT 31. – 4.0 ( 1193 – 1996)

Windows 2000 ( February 2000)

Windows XP ( October 2001 )

Windows Vista ( November 2006)

Windows 7 ( October 2009)

Windows 8  ( August 2012)

Windows 10 ( July 2015)

Windows Server ( March 2003)

Windows Home Server ( January 2007)

Windows CE ( April 2006)

Windows Mobile ( November 2000)

Windows Phone 7-10

types of mobile os device
Types Of Mobile OS device

Windows Operating System दो तरह के बिट्स को सपोर्ट करता है।

  • X64 Bit
  • X32 Bit जिसे X86 Bit भी कहते है।
What is Linux in hindi
Linux क्या है?

Linux क्या है? (What Is Linux In Hindi?)

Linux Operating System एक Open Source और पॉपुलर System सॉफ्टवेयर है जिसे कंप्यूटर और यूजर के बिक एक Interface बनाता है जिससे कि हमारा कंप्यूटर काम कर सके Linux Operating System सॉफ्टवेयर Gpl Version 2 सिंपल Gui Based Os है।

दूसरे शब्दों में कहा जाए तो Linux एक ऐसा ऑपरेटिंग सिस्टम सॉफ्टवेयर है जिसे हर को डाउनलोड कर इस्तमाल कर सकता है पर जैसा कि हम सब जानते है लिनक्स एक Open Source System Software है। और यह GUI Based Software है।

लिनक्स एक ऐसा ऑपरेटिंग System सॉफ्टवेयर है जिसे हर कोई चला नही सकता हालांकि यह Open Source है। ओर फिर भी इसे आप नही चला सकते इसको चलाने के लिए Command की जानकारी होना जरूरी है। तभी आप लिनक्स को चला सकते है।

मुख्य रूप से लिनक्स एक Reliable Secure और Error Free ऑपरेटिंग System सॉफ्टवेयर है।

linux का Owner कौन है?
linux का Owner कौन है?

Linux का Owner कौन है?

क्योंकि यह ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर है इसलिए लिनक्स ऑपरेटिंग System आसानी से उपलब्ध हो जाता है जिसे आप डाउनलोड कर के अपने कंप्यूटर में इंसटाल भी कर सकते है। लिनक्स के Owner का नाम Linus Torvaldus हैं। जिसे 1991 में Develope किया गया था।

Linux नाम रखने के पीछे एक बहुत बड़ा योगदान है। Linus Torvaldus ने इसका इसका नाम सबसे पहले “Freax” सोचा था पर Server के Administrator Torvaldas ने अपने Origional कोड को Distribute करने को सोचा था लेकिन Linux नाम की Dirictory जो इनके नाम का कॉम्बिनेशन था “Torvaldus” और “UNIX” का इसलिए इस ऑपरेटिंग सिस्टम का नाम Linux रखा गया।

UNIX एक पॉपुलर Operating System है UNIX का नाम पहले UNICS था जीका पूरा नाम Uniplexed Information And Computing Service है। और Unix एक मल्टी-यूजर, मल्टी-टास्किंग, Powerfull ऑपरेटिंग सिस्टम था जिसे 1960’s में Developed किया गया था।

the user interface in hindi
the user interface

2.3 The User Interface

यूजर इंटरफ़ेस क्या है? ( What Is User Interface In Hindi?)

यूजर इंटरफेस क्या है या यूआई क्या है और यूजर इंटरफेस क्या होता है ऐसे कई सारे प्रश्न आप सभी ने कहीं ना कहीं सुने होंगे या इंटरनेट और यूट्यूब पर सर्च कि होंगे अक्सर जब आप किसी भी डिवाइस को खरीदने चाहते होंगे चाहे वह वाशिंग मशीन हो या टीवी हो या फिर कंप्यूटर या क्यों ना आपका स्मार्टफोन ही हो ऐसे में आपने इंटरनेट पर लडकिया होगा कभी ना कभी यूजर इंटरफेस क्या है या यूआई क्या होता है ताकि आप अपने डिवाइस को आसानी से चला सके तो आइए जानते हैं यूआई का अर्थ यूआई क्या होता है What Is UI In Hindi / What Is User Interface In Hindi?

जब आप किसी भी डिवाइस या मशीन को चलाते हैं तो चलाने से पहले उस पर बना कुछ चिन्ह या निशान देखे होंगे की कोई भी डिवाइस या मशीन कैसे काम करती है चाहे वह डिवाइन आपका कंप्यूटर या स्मार्टफोन या फिर वाशिंग मशीन ही क्यों ना हो सभी डिवाइस या मशीन पर कुछ ना कुछ निशान बने होते हैं ताकि आपको पता चले कैसे चलाना है

ऐसे इंस्ट्रक्शन को आप माउस कीबोर्ड टच स्क्रीन इत्यादि को अपने हाथों का इस्तेमाल करके इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस को कमांड अप्लाई करते हैं तो उस डिवाइस और आपके बीच कम्युनिकेट होने को ही यूजर इंटरफेयर कहते है।

अगर कम शब्दों में बात की जाए तो यूजर इंटरफेस उसे कहते हैं जिसे आप आसानी से चला सके जैसे आप अपने स्मार्टफोन को आसानी से चला पाते हैं जिसमें आपको कोई भी परेशानी नहीं होती है अर्थात किसी भी फंक्शन या ऑप्शन को आसानी से चला पाते हैं उसे ही यूजर इंटरफेस कहते है।

बिना किसी परेशानी के किसी भी डिवाइस को या इलेक्ट्रॉनिक्स आइटम्स को ऑपरेट कर पाना ही यूजर इंटरफेस कहलाता है।

Types of user interface in hindi
Types of user interface in Hindi

यूजर इंटरफेस के प्रकार (Types Of User Interface In Hindi)

यूजर इंटरफेस के 5 मुख्य प्रकार है:-

ग्राफिकल यूज़र इंटरफेस (Graphical User Interface)

वेब यूज़र इंटरफ़ेस – Web User Interface

टच स्क्रीन इंटरफेस – Touch Screen Interface

कमांड लाइन इंटरफेस – Command Line Interface

हार्डवेयर यूजर इंटरफ़ेस – Hardware User Interface

👉ग्राफिकल यूज़र इंटरफेस (Graphical User Interface)

ग्राफिकल यूज़र इंटरफेस (Graphical User Interface) का Short Form GUI होता है ग्राफिकल यूजर इंटरफेस जैसा कि आप सबको इसके नाम से ही पता चलता है यह एक कंप्यूटर आधारित इंटरफ़ेस होता है जिसे हम माउस और कीबोर्ड द्वारा कंप्यूटर में कमांड देते हैं जिसका आउटपुट हमें मॉनिटर के स्क्रीन पर मिलता है यहां पर सभी प्रकार के आइकन, मेनू होता है। जिससे किसी के भी द्वारा कमांड या ऑपरेट किया जा सकता है GUI System के आने के बाद स्मार्टफोन या कंप्यूटर को चलाना आसान हो गया है।

👉वेब यूज़र इंटरफ़ेस – Web User Interface

वेब यूज़र इंटरफ़ेस – Web User Interface उसे कहते हैं जब हम इंटरनेट पर कोई भी इंफॉर्मेशन खोज ते हैं तो वहां दिखाई देने वाले इंफॉर्मेशन हमारे सर्च किए गए अनुसार जो रिजल्ट प्राप्त होता है उससे वेब यूजर इंटरफेस कहते हैं।

वेब यूज़र इंटरफ़ेस – Web User Interface  दूसरे शब्दों में कहां जाए तो यह भी केक ग्राफिकल यूजर इंटरफेस का काम करता है।

किसी भी वेबसाइट का यूजर इंटरफेस या लेआउट वेबसाइट के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होता है।

👉टच स्क्रीन इंटरफेस – Touch Screen Interface

टच स्क्रीन इंटरफेस – Touch Screen Interface का मतलब है जब हम टच स्क्रीन गैजेट्स जैसे स्मार्टफोन टेबलेट या टच स्क्रीन एटीएम मशीन पर हम इनपुट देते हंज तब टच स्क्रीन  गैजेट  द्वारा दिए गए  आउटपुट  को  टच स्क्रीन  इंटरफ़ेस  कहते हैं।

👉कमांड लाइन इंटरफेस – Command Line Interface

कमांड लाइन इंटरफेस – Command Line Interface का अर्थ है जब भी हम किसी कंप्यूटर में कीबोर्ड द्वारा इनपुट करते हैं और उसका जो आउटपुट मिलता है उसे कमांड लाइन इंटरफेस कहते हैं।

👉हार्डवेयर यूजर इंटरफ़ेस – Hardware User Interface

हार्डवेयर यूजर इंटरफ़ेस – Hardware User Interface का अर्थ है जब भी किसी हार्डवेयर को टच करके उस हार्डवेयर को इंस्ट्रक्ट करते हैं तब हार्डवेयर द्वारा मिले हुए आउटपुट को हार्डवेयर यूजर इंटरफेस कहते हैं।

What Is Taskbar In Hindi
Taskbar क्या है?

👉Taskbar क्या है (What Is Taskbar In Hindi)

कंप्यूटर के चालू होने पर कंप्यूटर पर जो पहला स्क्रीन दिखाई देता है उसे हम डेक्सटॉप कहते हैं ऐसे ही टास्कबार और स्टार्ट मेनू कंप्यूटर्स का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है

टास्कबार ग्राफिकल यूजर इंटरफेस का तत्व है जिसे हम बहुत से कार्य में उपयोग करते हैं। टास्कबार में वही प्रोग्राम मिलेंगे जो प्रोग्राम वास्तविक समय में चल रहे हो जिसे आप मिनिमाइज और मैक्सिमाइज कर सकते हैं।

टास्कबार एक कंप्यूटर का पार्ट है जहां आपको नोटिफिकेशन मिलता है और समय और डेट देखने को भी मिलता है जिसे आप अपने तरीके से कस्टमाइज कर सकते हैं।

What Is Icon In Hindi
Icon क्या है?

👉Icon क्या है? ( What Is Icon In Hindi?)

कंप्यूटर के यहां होने पर जो सबसे पहला है दिखता है उससे टेक्स्ट ऑफिस स्क्रीन कहा जाता है और डेक्सटॉप स्क्रीन पर देखे जाने वाले छोटे-छोटे आइटम होते हैं जिसका इस्तेमाल हम इन्हें आसानी से ऑपरेट करने में करते हैं।

किसी भी फाइल फोल्डर प्रोग्राम को आसानी से रन किया जा सकता है या ओपन किया जा सकता है

फाइल फोल्डर या किसी भी प्रोग्राम को ओपन करने के बहुत सारे तरीके होते हैं लेकिन सबसे आसान तरीका होता है आइकन को डबल क्लिक करके ओपन करना।

What Is Start Menu In Hindi?
Start Menu क्या है?

👉Start Menu क्या है? ( What Is Start Menu In Hindi?)

स्टार्ट मेनू कंप्यूटर का वाह मेन हिस्सा जिससे कंप्यूटर को चालू और बंद किया जा सकता है और स्टार्ट मेनू में कई सारे ऑप्शन दिए होते हैं जिससे कंप्यूटर को चलाने में सहायता मिलती है।

टास्कबार का सबसे महत्वपूर्ण विंडोज स्टार्ट बटन का होता है जो नीचे बाय और स्थित है टास्कबार में स्थित स्टार्ट बटन को दबाने पर एक मेनू खुल जाता है जिससे स्टार्ट मेनू कहते हैं।

the user interface of desktop in hindi
the user interface of desktop

स्टार्ट मेनू में फंक्शन होता है जैसे

शट डाउन बटन का (Shut Down Button का )

स्लीप मोड बटन का (Sleep Mode Button का)

रीस्टार्ट बटन का (Restart Button का )

विंडोज लॉग ऑफ बटन का (Windows Log Off Button का)

स्विच यूजर एकाउंट का (Switch User Button का )

👉एप्लीकेशन को रन कैसे करे ( Running An Application )

एप्लीकेशन को कैसे रन करें किसी भी एप्लीकेशन को रन करने के लिए सबसे पहले उसका इंस्टॉल होना जरूरी अगर आपके कंप्यूटर में कोई डेक्सटॉप एप्लीकेशन इंस्टॉल नहीं है या फिर जिस भी एप्लीकेशन को आप रन करना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको उस एप्लीकेशन को इंस्टॉल करना अनिवार्य है अब एप्लीकेशन कोई भी हो सकता है चाहे वह मीडिया प्लेयर के एप्लीकेशन हो या फिर एडिटिंग सॉफ्टवेयर हो या गेम ही क्यों ना हो

तो आइए जान लेते हैं किसी भी एप्लीकेशन को कैसे इंस्टॉल करते हैं और अपने कंप्यूटर में रन करते हैं।

यहां पर आप देख सकते हैं मैंने एक मीडिया प्लेयर का एप्लीकेशन लिया है जो वीएलसी मीडिया प्लेयर है जिसको हम इंस्टॉल करेंगे हर जानेंगे कैसे रन करते हैं

सबसे पहले इंस्टॉल करने के लिए वीएलसी को राइट क्लिक करके रन एज एन एडमिनिस्ट्रेटर पर क्लिक करेंगे

क्लिक करने के बाद आपको यहां दो ऑप्शन मिलेगा जोकि पूछ रहा है आपसे क्या आप अपने कंप्यूटर में वीएलसी मीडिया को इंस्टॉल करना चाहते हैं आपको यह से क्लिक करना है।

दोबारा क्लिक करने के बाद आपको यहां तीन ऑप्शन मिल जाएगा इसमें आपको एक्सेप्ट के ऑप्शन पर क्लिक करना है क्लिक करते ही मीडिया प्लेयर इंस्टॉल हो जाएगा

यह सॉफ्टवेयर इंस्टॉल होने में ज्यादा समय नहीं लेगा और अब जगह की आप सब देख सकते हैं वीएलसी मीडिया प्लेयर इंस्टॉल हो चुका है अब इसे रन करते हैं।

वीएलसी मीडिया प्लेयर को या किसी भी एप्लीकेशन को रन करने के लिए सबसे पहले एप्लीकेशन को सिलेक्ट करके राइट क्लिक करेंगे और फिर ओपन के बटन पर क्लिक करेंगे ऐसा करते ही आपका एप्लीकेशन रन हो जाएगा

👉कम शब्दों में

किसी भी एप्लीकेशन को कंप्यूटर में रन करने के लिए सबसे पहले उस को इंस्टॉल करना होता है

इंस्टॉल करने के लिए एप्लीकेशन पर माउस कर्सर ले जाएं और डबल क्लिक करें डबल क्लिक करते ही ऑप्शन आ जाएगा यस और नो का

यस करने के बाद एप्लीकेशन में एक्सेप्ट और डिक्लाइन का ऑप्शन मिलेगा क्या आपको एक्सेप्ट के ऑप्शन पर क्लिक करना

अब कुछ देर इंतजार करने के बाद आपका एप्लीकेशन पूरी तरह से कंप्यूटर में इंस्टॉल हो गया है।

इस को ओपन करने के लिए डबल क्लिक करिए ऐसा करने पर कोई भी एप्लीकेशन आपका रन कर जाएगा।

operating system simple setting in hindi
Operating System Simple Setting in Hindi

Operating System Simple Setting ( ऑपरेटिंग सिस्टम के आसान से सेटिंग )

ऑपरेटिंग सिस्टम के कुछ बेसिक और इंपॉर्टेंट सेटिंग तो आज हम देखेंगे

Changing System Date And Time

Changing Display Properties

To Add Or Remove A Windows Component

Changing Mouse Properties

Adding Or Removing Printers

👉How To Change Date And Time Of Computer (कंप्यूटर में तारीख और समय बदलना)

कंप्यूटर में तारीख और समय बदलना आज हम सीखेंगे तो कंप्यूटर सिस्टम के तारीख और समय को ऐसे बदला जाता है।

कंप्यूटर में तारीख और समय 2 तरह से बदला जा सकता है पहला मैनुअल और दूसरा ऑटो सबसे पहले हम देखेंगे कंप्यूटर में तारीख और समय बदलने की मैनुअल सेटिंग

टास्कबार में दिए हुए दाएं तरफ के तारीख और समय पर राइट क्लिक करके प्रॉपर्टी पर क्लिक करेंगे

इसके बाद मैनुअल सेटिंग करने के लिए आपको नीचे दिए हुए चेंज डेट और टाइम सेटिंग पर क्लिक करना है

क्लिक करने के बाद आपको डेट और समय सही सही सेलेक्ट कर लेना है ऐसा करने के बाद आपको ओके के बटन पर क्लिक करके अप्लाई के बटन पर क्लिक करना है।

अप्लाई के बटन पर क्लिक करते ही क्योंकि बटन पर क्लिक करना है आर अब आप देख सकते हैं आपका डेट और टाइम चेंज हो चुका है।

👉ओमेटिक तारीख और समय बदलना सीखें

ऑटोमेटिक तारीख और समय बदलने के लिए उसी प्रोसेस को दोबारा दोहराएंगे सबसे पहले डेट और टाइम पर राइट क्लिक करने के बाद प्रॉपर्टी पर जाएंगे

उसके बाद इंटरनेट टाइम पर क्लिक करेंगे क्लिक करने के बाद टाइम जोन सिलेक्ट करेंगे जैसे भारत का टाइम जोन +5:30 IST होता है तो हम यहां जय सेलेक्ट करेंगे और

सेलेक्ट करने के बाद “Update Now” पर क्लिक करो करने पर आपका तारीख और समय ऑटो अपडेट हो जाएगा

Note: ऑटोमेटिक अपडेट होने के लिए आपके लैपटॉप में या आपके कंप्यूटर में इंटरनेट का कनेक्शन होना अनिवार्य है अन्यथा आपके कंप्यूटर या लैपटॉप में कोई तारीख और समय की ऑटो अपडेट नहीं होगी और सबसे महत्वपूर्ण टाइम जोन को सेलेक्ट करना ना भूलें।

Changing Display Properties ( कंप्यूटर की डिस्पले प्रॉपर्टी कैसे चेंज करें)

👉How To Change Display Properties In Hindi

कंप्यूटर की डिस्प्ले प्रॉपर्टी को चेंज करना बहुत ही आसान है इसमें ज्यादा समय नहीं लगता और ना ही कोई इंटरनेट की जरूरत होती है यह काम आसानी से हो जाता है।

कंप्यूटर की प्रॉपर्टी बदलने के लिए सबसे पहले डेस्कटॉप पर राइट क्लिक करके डिस्प्ले प्रॉपर्टी पर क्लिक करेंगे

डिस्प्ले प्रॉपर्टी पर क्लिक करने के बाद रिवॉल्यूशन को चेंज करना है जिससे आपके कंप्यूटर की डिस्प्ले प्रॉपर्टी बदल जाएगी ऐसा करके आप किसी भी कंप्यूटर डिस्प्ले के प्रॉपर्टीज को बदल सकते हैं।

👉To Add Or Remove A Windows Component

विंडोज में इंस्टॉल किए गए सॉफ्टवेयर को कैसे हटाएंगे और किसी भी सॉफ्टवेयर को इंस्टॉल करेंगे तो सबसे पहले रिमूव करना सीख लेते हैं।

कंप्यूटर में कोई भी सॉफ्टवेयर हटाने के लिए या अनइनस्टॉल करने के लिए सबसे पहले हमें कंट्रोल पैनल में जाना होगा

कंट्रोल पैनल को ओपन करने के लिए स्टार्ट बटन पर क्लिक करें आर वहां आप देख सकते हैं कंट्रोल पैनल का टाइप जिसे आप डबल क्लिक करके या सिंगल क्लिक करके ओपन कर सकते हैं।

कंट्रोल पैनल ओपन करने के बाद कुछ ऐसा इंटरफेस मिलेगा आपको जहां आपको क्लिक करना है अनइनस्टॉल पर

और अब ऐसा करने के बाद आपको एक पूरा ऑप्शन खुलकर आ जाएगा जो भी एप्लीकेशन को इंस्टॉल करना चाहते हैं आप यहां से कर सकते हैं।

अब यहां पर एक सॉफ्टवेयर को हटाने के लिए यान इंस्टॉल करने के लिए सबसे पहले उस एप्लीकेशन को सेलेक्ट करिए सिलेक्ट करके राइट क्लिक करिए राइट क्लिक करने के बाद अनइनस्टॉल पर क्लिक करिए।

ऐसा करते ही आपका सॉफ्टवेयर इंस्टॉल हो जाएगा।

किसी भी सॉफ्टवेयर को कंप्यूटर में इंस्टॉल कैसे करें

शक्कर को इंस्टॉल करने के लिए सबसे पहले उस सॉफ्टवेयर को डाउनलोड करिए जिस सॉफ्टवेयर को आप इंस्टॉल करना चाहते हैं उदाहरण के लिए

गूगल क्रोम इंस्टॉल करते हैं इसे इंस्टॉल करने के लिए सबसे पहले आपको इसके ऑफिशियल वेबसाइट से क्रोम ब्राउज़र डाउनलोड करना होगा

डाउनलोड करने के बाद इस पर डबल क्लिक करिए डबल क्लिक करने पर एक ऑप्शन आएगा जहां पर आपको यस करना है यस करने के बाद एक छोटा सा बॉक्स खुलकर आएगा जहां पर आपको मिल जाएगा देखने को डाउनलोडिंग चल रहा है।

अब कुछ देर बाद डाउनलोड करने पर यह सॉफ्टवेयर इंस्टॉल हो जाएगा ऐसे करके आप किसी भी शॉप पर को इंस्टॉल कर सकते हैं या अगर आपके कंप्यूटर में पहले से कोई सॉफ्टवेयर है जिसे आप इंस्टॉल करना चाहते हैं तो सेम प्रोसेस से इंस्टॉल करिए इंस्टॉल हो जाएगा।

👉Changing Mouse Properties (माउस की प्रॉपर्टी कैसे बदले)

माउस की प्रॉपर्टी को बदलने के लिए सबसे पहले कंट्रोल पैनल ओपन करिए

कंट्रोल पैनल ओपन होते ही सर्च बॉक्स में सर्च करिए माउस

अब माउस के ऑप्शन पर क्लिक करिए

क्लिक करने के बाद आपको माउस के बहुत सारे प्रॉपर्टी दिख जाएंगे जैसे

माउस की स्पीड बदलना

माउस के कर सर और उसके कलर बदलना

माउस के बटन को स्विच करना लेफ्ट टू राइट और राइट टो लेफ्ट

जिस भी ऑप्शन को बदलना चाहते हैं आप सिंपल वहां पर क्लिक करके बदल सकते हैं

बदलने के बाद अप्लाई के बटन पर क्लिक करें और ओके बटन पर क्लिक करें और अब आप देख सकते हैं जो भी आपने बदला है वाह बदल जाएगा।

Adding Or Removing Printers

How To Install Or Remove Printers ( Printer कैसे Install करें और Printer कैसे Remove करते है। )

Printer एक Output Device है जिसे Computer के माध्यम से किसी Information का Output Print करते है।

प्रिंटर्स को इनस्टॉल और रिमूव करने के लिए सबसे पहले उसको इनस्टॉल करना होता है। और Install करने के लिए सबसे पहले आपको उसके Version का सॉफ्टवेयर डाउनलोड करना होता है।

जैसे कौन से Model और कौन से Brand का Printer है जैसे प्रिंटर्स के कुछ मुख्य मॉडल और ब्रांड है जैसे

  • Canon Printer और उसके Model
  • Epson Printer और उसके Model

किसी भी Printer को Computer में Add करने के लिए उसका Software डाउनलोड करिये

Download करने के बाद इनस्टॉल करिये सॉफ्टवेयर को इनस्टॉल करने के लिए सबसे पहले Software को डबल क्लिक या Right Click कर के Run As Administrator पर करिये।

इसके बाद आपको एक दो ऑप्शन मिलेगा पहला जिसमे Yes पर Click Karna है और दूसरे ऑप्शन में आपको Accept पर क्लिक करना है।

एक्सेप्ट के बटन पर क्लिक करने के बाद आपको नेक्स्ट करना है और नेक्स्ट करने के बाद का सॉफ्टवेयर इंस्टॉल हो जाएगा।

Note: किसी भी प्रिंटर को इंस्टॉल या ऐड करते समय ध्यान रखें प्रिंटर चालू हो और “USB केबल” आपके कंप्यूटर सिस्टम में कनेक्ट हो तभी आपका प्रिंटर कंप्यूटर में ऐड हो पाएगा।

ऐसे ही स्कैनर के सॉफ्टवेयर को डाउनलोड करना है डाउनलोड करके इंस्टॉल कर कर लेना है आपका प्रिंटर कंप्यूटर पर कनेक्ट हो जाएगा।

प्रिंटर को अपने कंप्यूटर से कैसे हटाए ( How To Uninstall Printer From Computer In Hindi )

कंप्यूटर से जुड़े हुए प्रिंटर उसके सॉफ्टवेयर अनइनस्टॉल करने को ही प्रिंटर रिमूव करना कहते है।

प्रिंटर के सॉफ्टवेयर और रिमूव करने के लिए सबसे पहले कंट्रोल पैनल ओपन करेंगे

कंट्रोल पैनल को ओपन करने के लिए स्टार्ट मेनू पर क्लिक करेंगे और सुपर यहां कंट्रोल पैनल पर क्लिक करेंगे या आपके डेक्सटॉप पर कंट्रोल पैनल का आइकन है तो डबल क्लिक करके ओपन करेंगे।

कंट्रोल पैनल ओपन होने पर यहां नीचे अनइनस्टॉल के ऑप्शन पर क्लिक करेंगे इसके बाद अपने प्रिंटर के सॉफ्टवेयर को सेलेक्ट करके अनइनस्टॉल कै ऑप्शन पर क्लिक करेंगे या सॉफ्टवेयर को सेलेक्ट करके राइट क्लिक करके आने साल के ऑपरेटर क्लिक करेंगे क्लिक करने के बाद

आपसे पूछा जाएगा आपको सॉफ्टवेयर अनइनस्टॉल यानी रिमूव करना है तो आपको याद किया ऑप्शन पर क्लिक करना है बटन पर क्लिक करने के बाद आपका सॉफ्टवेयर अनइनस्टॉल होने लगेगा

तो ऐसे ही अपने कंप्यूटर सिस्टम में या लैपटॉप में प्रिंटर को अनइनस्टॉल और अनइनस्टॉल कर सकते हैं अथवा प्रिंटर को ऐड रिमूव कर सकते हैं।

फाइल डायरेक्टरी मैनेजमेंट ( File Directory Management)

फाइल डायरेक्टरी मैनेजमेंट किसे कहते हैं या डायरेक्टरी मैनेजमेंट किसे कहा जाता है?

वास्तविक जीवन में जब हम किसी कार्य को करते हैं तब हमें उस कार्य को सुरक्षित रखना अनिवार्य होता है वैसे ही कंप्यूटर सिस्टम पर जब हम काम करते हैं तब उस कार्य को या होने वाले कार्य को सुरक्षित जगह रखते हैं जिसे हार्ड ड्राइव कहते हैं।

सुरक्षित रखने से तात्पर्य यह है कि कभी भी उस डाटा को हम दुबारा से इस्तेमाल में ले सके जब भी हमें कोई जरूरत हो तो वैसे ही हम कंप्यूटर में भी अपने डाटा को सुरक्षित रख दे सुरक्षित रखने के लिए हमें फोल्डर बनाने होते हैं फोल्डर बनाकर के उसे कोई नाम देते हैं उस फोल्डर को ताकि जब भी हमें जरूरत पड़े तब उस फाइल को दोबारा देख सके।

किसी डाटा या फाइल को स्टोर करके Save रखना कंप्यूटर में फाइल डायरेक्टरी मैनेजमेंट कह लाता है का उपयोग हमेशा ही होता है जिससे डाटा या फाइल को सुरक्षित रख सके जैसे मान ले आपने कुछ एमएस वर्ड में टाइप किया है या मान ले आपने अपना बायोडाटा बनाया है।

तब उसे आप को सेब करके रखना होता है जिससे आप भविष्य में कभी भी उससे दुबारा जानकारी ले सके और उसे शेयर कर सकते हैं।

Types Of Files ( फाइल के प्रकार )

कंप्यूटर फाइल कितने प्रकार की होती है?

कंप्यूटर सिस्टम में फाइल के ढेरों प्रकाश होते हैं पत्थर कंप्यूटर सिस्टम में कई सारे डाटा फाइल रूप में रखे जाते हैं जैसे डॉक्यूमेंट के फाइल, सॉफ्टवेयर का कलेक्शन, Mp3 Song, Audio & Video, आदि।

डाटा को कंप्यूटर में सुरक्षित रखना क्या किसी दस्तावेज को कंप्यूटर में रखना फाइल क्या लाता है और जिस नाम के फोल्डर में या ड्राइव में रखा गया है वह फाइल डायरेक्टरी कहलाती है।

Summary

Introduction To GUI Based Operating System मैं हमने देखा Basic Of Operating System, ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है? कुछ ऑपरेटिंग सिस्टम के बारे में जाना जैसे विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है और इसके कई प्रकार हैं ऐसे ही हमने Liniux ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है जाना और Linux कब लांच किया गया था।

उसके बाद हमने देखा यूजर इंटरफेस क्या होता है या यूजर इंटरफेस क्या है और टास्कबार क्या होता है आइकन क्या होता है स्टार्ट मैन्यू क्या है अथवा किसी भी एप्लीकेशन को कंप्यूटर में कैसे इंस्टॉल करते हैं और कैसे सॉफ्टवेयर को चलाते हैं।

इसके बाद हमने पढ़ा ऑपरेटिंग सिस्टम के कुछ आसान सेटिंग जैसे कंप्यूटर में डेट और समय कैसे बदले जाते हैं जिसमें बताया है डेट और समय बदलने के 2 तरीके होते हैं पहला मैनुअल और दूसरा ऑटोमेटिक।

डिस्प्ले प्रॉपर्टी कैसे चेंज किया जाता है या अभी ने देखा और किसी भी सॉफ्टवेयर को कंप्यूटर में इंस्टॉल और अनइनस्टॉल कैसे किया जाता है।

कंप्यूटर में माउस की प्रॉपर्टी कैसे बदली जाती है माउस की प्रॉपर्टी में माउस के कर सर का Icon कैसे बदला जाता है और कंप्यूटर में माउस का स्पीड कैसे बढ़ाया जाता है तथा माउस के बटन को Switch कैसे किय कैसे किया जाता है।

और प्रिंटर कैसे इंस्टॉल करें प्रिंटर को इंस्टॉल और अन्य सवाल कैसे करें यह भी बताया है साथ ही फाइल डायरेक्टरी मैनेजमेंट क्या होता है फाइल क्या होता है डायरेक्टरी क्या होता है और फाइल डायरेक्टरी सिस्टम के कितने प्रकार होते हैं और कंप्यूटर फाइल कितने प्रकार के होते हैं।

मॉडल क्वेश्चन-आंसर जल्द ही अपलोड कर दिया जाएगा

Update या Notification पाने के लिए हमारे Social Media से जुड़े

CCC Exam Chapter 1

👉यह भी पढे: Introduction to Computer In Hindi (कंप्यूटर का परिचय)

👉यह भी पढे: What is Output Device And Input Device In Hindi

👉यह भी पढे: Introduction To Computer | Computer Memory & Storage

👉यह भी पढे: IT gadgets and their applications (आईटी गैजेट और उनके अनुप्रयोग)

 

👉Also Read: How to improve English for competitive exams?

👉Also Read: CCC Exam Ki Taiyari Kaise Kre

👉Latest Sarkari Jobs Notification.

Follow Our Social Links (like telegram, instagram, facebook)

👉Our Facebook Page: https://facebook.com/infoattayarijeetki

👉Our Telegram Channel: https://t.me/tayarijeetki

👉Our Instagram Id: https://www.instagram.com/tayarijeetki/

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here